शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

बड़ी मछली छोटी को खाए जा रही है


बड़ी मछली छोटी को खाए जा रही है।
यह दुनिया ऐसे ही चलती जा रही है।
कमजोरों पर जुल्म हमेशा होते आए
आज भी यह दुनिया जुल्म ढा रही है।
अभी तो हम ढंग से जी भी नहीं पाए
यह जिन्दगी है कि हाथों से जा रही है।
उसकी खूबसूरती का कोई जवाब नहीं
जब देखो तब ही वो दिलको भा रही है।
उसको मनाने की तो कोशिश बहुत की
मगर उसके मुँह पे हमेशा ही ना रही है।
हक़ मांगो तो तकलीफ होती है उनको
हमारी सरकार हमको ही ठुकरा रही है।
मुनाफा कमा के हो गए वो नम्बर वन
कर्मचारियों की हालत लड़खड़ा रही है।

11 टिप्‍पणियां:

  1. हक़ मांगो तो तकलीफ होती है उनको
    हमारी सरकार हमको ही ठुकरा रही है।

    मुनाफा कमा के हो गए वो नम्बर वन
    कर्मचारियों की हालत लड़खड़ा रही है।

    एकदम सच, सच के सिवा और कुछ भी नहीं.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. उसको मनाने की तो कोशिश बहुत की
    मगर उसके मुँह पे हमेशा ही ना रही है।
    एक बार फिर से मनाइए जनाब! उनके ना मे ही तो हा होती है
    बड़ी मछली छोटी को खाए जा रही है।
    यह दुनिया ऐसे ही चलती जा रही है।
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. हक़ मांगो तो तकलीफ होती है उनको
    हमारी सरकार हमको ही ठुकरा रही है।
    aaj ki duniya me sab bada ajeeb ho gaya hai..haq to mil hi nahi pata hai..

    badhiya kavita..badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  4. अभी तो हम ढंग से जी भी नहीं पाए
    यह जिन्दगी है कि हाथों से जा रही है
    - बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  5. हक़ मांगो तो तकलीफ होती है उनको
    हमारी सरकार हमको ही ठुकरा रही है।

    मुनाफा कमा के हो गए वो नम्बर वन
    कर्मचारियों की हालत लड़खड़ा रही है।

    सुन्दर कविता के इन शब्दों के लिए.
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. इतना सुंदर रचना लिखा है आपने कि कहने के लिए अल्फाज़ कम पर गए!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरा हौसला बढाने के लिए आप सभी ब्लागर मित्रों का दिल से धन्यबाद !!

    उत्तर देंहटाएं