सोमवार, 6 जुलाई 2009

मुस्कराते हुए लोग भी अन्दर से हुए क्रूर हैं

मुस्कराते हुए लोग भी अन्दर से हुए क्रूर हैं
दोहरी जिन्दगी जीने के लिए हुए मजबूर हैं

कहना कुछ करना कुछ आदत सी पड़ गयी
इंसानियत के कितने बदल गए दस्तूर हैं

जुल्म पर जुल्म बढते जा रहे हैं दिनों दिन
मगर सज़ा वही पा रहे जो गरीब बेक़सूर हैं

मस्ती में जी रहे हैं वही मनमानी जिंदगी
जिनके दौलत से भरे हुए खजाने भरपूर हैं

कोई किसी की परवाह करना ही नहीं चाहे
आज इंसानियत से लोग जा रहे बड़ी दूर हैं।

शासन प्रशासन सभी तो हैं जनता के लिए
इसके बावजूद भी सब लोग हुए चूर चूर हैं


13 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचना बहुत अच्छी लगी....आप बहुत अच्छा लिखते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. जुल्म पर जुल्म बढते जा रहे हैं दिनों दिन
    मगर सज़ा वही पा रहे जो गरीब बेक़सूर हैं ।

    सच्चाई को बेबाकी से बेनकाब करती आपकी रचना प्रशंशनीय है...बधाई
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक एक शेर कमाल के है ................बहुत ही सही कहा है आप्ने ...........मुस्कुराते हुये लोग............अन्दर से क्रुर हुये है.........बहुत सच है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. जुल्म पर जुल्म बढते जा रहे हैं दिनों दिन
    मगर सज़ा वही पा रहे जो गरीब बेक़सूर हैं

    कमल के शेर कहें हैं आपने.............. बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. sahi likha hai aapne,
    aaj ka daur aisa hi chal raha hai,
    insaan ki paribhasha badal rahi hai,

    bahut badhiya rachana..dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं
  6. मस्ती में जी रहे हैं वही मनमानी जिंदगी
    जिनके दौलत से भरे हुए खजाने भरपूर हैं।

    आपका लेखन वास्‍तव में बहुत ही उम्‍दा है, हर एक पंक्ति बहुत ही बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. होठों पर मुस्कान,
    हृदय में भरा हलाहल होता है।
    इनको देख हमारा मन,
    आकुल-व्याकुल होता है।।

    आपकी कविता दार्शनिकता से
    भरपूर है।
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. शासन प्रशासन सभी तो हैं जनता के लिए
    इसके बावजूद भी सब लोग हुए चूर चूर हैं।
    -----
    हकीकत यही है -- बहुत खूबसूरती से बयान किया है आपने.
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  9. शासन प्रशासन सभी तो हैं जनता के लिए
    इसके बावजूद भी सब लोग हुए चूर चूर हैं
    बहुत ही सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  10. कोई किसी की परवाह करना ही नहीं चाहे
    आज इंसानियत से लोग जा रहे बड़ी दूर हैं।

    -हर शेर सटीक है, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर रचना लिखा है आपने और बिल्कुल सही कहा है कि मुस्कुराते हुए लोग भी अन्दर से क्रूर होते हैं..ये बात सच है!

    उत्तर देंहटाएं