रविवार, 16 अगस्त 2009

कोई पी रहा दोस्तों में कोई पी रहा अकेले में


कोई पी रहा दोस्तों में कोई पी रहा अकेले में
ढूँढ रहा हर कोई साथी दुनिया के इस मेले में।
एक न एक दिन सकूं उसे जरूर मिल जाएगा
पर उसे सकूं नहीं मिलता दुनिया के झमेले में।

किसी तरह आनंद न आये तो कोई क्या करे
हर किसी की जुबान पर यही सवाल रहता है।
कहीं भी कोई हँसी न उडादे उसके जज्बात की
यही सोचकर वो अक्सर चुपचाप सा रहता है।

आजकल मुहब्बत दिलों से मिटती जा रही है
दुनिया अपने आप में ही सिमटती जा रही है।
किसी को भी परवाह नहीं है किसी की जहाँ में
पता नहीं ये दुनिया
कहाँ भटकती जा रही है।

ग़मों से ही खुशियों की पहचान हुआ करती है
खुशियों से ही ग़मों की पहचान हुआ करती है।
बहुत कम ही लोग समझते हैं इस दुनिया में
जिन्दगी चार दिन की महमान हुआ करती है।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया गज़ल है बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. waah premji chaaron muktak umdaa hain
    rochak bhi hain saahityik bhi hain
    saral bhi hain
    aur goodh bhi hain
    badhai !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आजकल मुहब्बत दिलों से मिटती जा रही है
    दुनिया अपने आप में ही सिमटती जा रही है

    सच कहा है आपने........... dilon में dooriyaan आती जा रही हैं.........लाजवाब लिखते है आप..........

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई पी रहा दोस्तों में कोई पी रहा अकेले में
    ढूँढ रहा हर कोई साथी दुनिया के इस मेले में।
    एक न एक दिन सकूं उसे जरूर मिल जाएगा
    पर उसे सकूं नहीं मिलता दुनिया के झमेले में।

    बहुत ही खुब ................दुनिया अंसुल्झी पहेली है ...........सुन्दर भाव वाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आजकल मुहब्बत दिलों से मिटती जा रही है
    दुनिया अपने आप में ही सिमटती जा रही है।
    वाह! प्रेम भाईसाहब बहुत अच्छा है. बडे सलीके से कहा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं