शुक्रवार, 14 अगस्त 2009

खुश हो के दूसरों का खुश जीवन किया करो


खुश हो के दूसरों का खुश जीवन किया करो
खाओ पियो पल दो पल प्रहसन किया करो

सही और ग़लत का फैसला अगर हो पाय
तो अकेले बैठकर मन में मंथन किया करो

आप कितने अच्छे हो कितने बुरे हो दोस्त
अपने ही कर्मों का सामने दर्पण किया करो

इतना कमा कर आखिर कहाँ ले के जाओगे
थोड़ा बहुत असहायों में अर्पण किया करो

लोग तुमसे बात करने को व्याकुल हो जाए
कुछ आप ख़ुद में पैदा आकर्षण किया करो

भूल से बहक जाओ अपनी भावनाओं में
अपने आप पर भी थोड़ा शासन किया करो

क्यों सिकुड़ कर जी रहे हो आप जिंदगी को
दौलत भी फुर्सत भी तो देशाटन किया करो

यह मन पवित्रता से दयालुता से भर जाएगा
जो भूखे सोते उनको दान राशन किया करो

13 टिप्‍पणियां:

  1. आपका ब्लॉग अच्छा लगा। आपको जनमाष्टमी और स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्‍वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    जय हिन्द!!

    भारत मॉ की जय हो!!

    आई लव ईण्डियॉ


    आभार

    मुम्बई-टाईगर
    द फोटू गैलेरी
    महाप्रेम
    माई ब्लोग
    SELECTION & COLLECTION

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही और ग़लत का फैसला अगर न हो पाय
    तो अकेले बैठकर मन में मंथन किया करो।
    ठीक कहा है बिना मंथन के सही और गलत का फैसला कहाँ हो पाता है.
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही और ग़लत का फैसला अगर न हो पाय
    तो अकेले बैठकर मन में मंथन किया करो।
    ग़ज़ल का सबसे पसंदीदा शेर.

    सुन्दर ग़ज़ल प्रस्तुति पर आभार.

    जन्माष्टमी और स्‍वतंत्रता दिवस की आपको बहुत-बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर.अत्यन्त रोचक.

    स्वतन्त्रता-दिवस की बहुत बहुत-बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही और ग़लत का फैसला अगर न हो पाय
    तो अकेले बैठकर मन में मंथन किया करो।

    बहुत सही कहा है आपने इन दो पंक्तियों में ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'भूल से बहक न जाओ अपनी भावनाओं में
    अपने आप पर भी थोड़ा शासन किया करो।'
    - स्वानुशासन जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाहजी..............
    आप कितने अच्छे हो कितने बुरे हो दोस्त
    अपने ही कर्मों का सामने दर्पण किया करो।

    इतना कमा कर आखिर कहाँ ले के जाओगे
    थोड़ा बहुत असहायों में अर्पण किया करो।
    क्या बात है !

    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं