बुधवार, 12 अगस्त 2009

मेरी आँखों की नीदों को उड़ाके वो गए


मेरी आँखों की नीदों को उड़ाके वो गए
रिश्ता दिल से दिल का जुडाके वो गए

सब कुछ ठीक ही चल रहा था अब तक
जाने किस बात पे मुँह फुलाके वो गए

रूठ भी गए तो मना लेंगे उन्हें प्यार से
हाय झटक मेरी बहियाँ छुडाके वो गए

सोचा गुजार देंगे जीवन यह साथ-साथ
झुकना तो दूर मुझको झुकाके वो गए

मन का दुःख अब किस से कहने जायें
कसम से तन-मन मेरा दुखाके वो गए

12 टिप्‍पणियां:

  1. सोचा गुजार देंगे जीवन यह साथ-साथ
    झुकना तो दूर मुझको झुकाके वो गए।
    सुन्दर ब्यथा कथा और अभिव्यक्ति
    अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोचा गुजार देंगे जीवन यह साथ-साथ
    झुकना तो दूर मुझको झुकाके वो गए।

    सब कर्मों के ही फल हैं।
    बहुत बढ़िया नोक-झोंक रही।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब कुछ ठीक ही चल रहा था अब तक
    जाने किस बात पे मुँह फुलाके वो गए

    आशिक की फितरत को बाखूबी उतार है आपने अपनी रचना में............ उम्दा, लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  4. waah premji

    jiyo
    jiyo
    bahut badhaai is umda rachnaa ke liye.........

    उत्तर देंहटाएं
  5. आओ प्यार में रच बस एक दूजे को जवां करें।
    प्यार मेम रचे बसे लोग वाकई जवां रहते हैं कभी बूढे नहीं होते,सुन्दर सही सोच
    श्याम सखा श्याम

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं