सोमवार, 2 मार्च 2009

कभी दो कदम मेरे साथ चलते तो क्या बात थी












कभी दो कदम मेरे साथ चलते तो क्या बात थी।
कभी दिलसे मुझसे बात करते तो क्या बात थी।

मेरे दिल की बात जानने की तुमने कोशिश न की
कभी हाथों में अपना  हाथ धरते तो क्या बात थी।







कभी तो दिलवर तुम ने मुझे अपनापन दिया होता।
कभी तो मेरे दर्द को तुमने अपना बना लिया होता।

एक बार भी नहीं पूंछा कैसा लगता मेरा साथ प्रिये
कभी तो पास आ के सीने से मुझे लगा लिया होता।







अपनेपन के लिए उमर भर तरसी हूँ आस लिए हुए।
जीती रही हूँ जिन्दगी अपना चेहरा उदास लिए हुए।

कुए के पास रहकर भी प्यासी रही ये जिन्दगी मेरी
लगता यूँ ही मरूंगी तन - मन की प्यास लिए हुए।







7 टिप्‍पणियां:

  1. kya baat kahi hai ........aapne to poori zindagi ka dard utar diya hai .har sher lajawab hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब कहा है भाई...आनन्द आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दो कदम वो न चले,

    मैं ही घिसटती ही रही।

    वो तो पत्थर ही रहे,

    मैं ही चटकती ही रही।

    मेरे मन्दिर में भी,

    जज्बात सभी गुम-सुम हैं,

    उनको पाने के लिए,

    जग में भटकती ही रही।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी दो कदम मेरे साथ चलते तो क्या बात थी।

    कभी दिलसे मुझसे बात करते तो क्या बात थी।

    मेरे दिलकी बात जानने की तुमने कोशिश न की

    कभी हाथों में प्रिय हाथ धरते तो क्या बात थी......

    thi kahaan ji क्या बात...hai...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर बात भावपूर्ण लफ्जों में कही आपने

    उत्तर देंहटाएं