सोमवार, 6 जनवरी 2020

ये सब भी हैं मोदी में

गीत
 कौन नहीं है उसमें 
                  ये सभी हैं मोदी में 
चाणक्य भी हैं उसमें 
                   बुद्ध भी हैं उसमें। 
विवेकानंद भी हैं उसमें
                   गाँधी भी हैं उसमें 
बोस भी हैं उसमें 
           भगत सिंह भी हैं उसमें। 
पटेल भी हैं उसमें 
            अम्बेडकर भी हैं उसमें 
अटल भी है उसमें 
                कलाम भी हैं उसमें। 
शासक भी है उसमें 
               प्रशासक भी है उसमें
 साधक भी है उसमें
               सुधारक भी है उसमें। 
देश-प्रेमी भी है उसमें 
               जन प्रेमी भी है उसमें
चैतन्य भी है उसमें 
            सर्वहितैषी भी है उसमें।                     
आन भी है उसमें 
                    शान है भी  उसमें 
स्वाभिमान भी है उसमें 
              गौरवगान भी है उसमें। 
मानवता भी है उसमें 
                प्रभुभक्त भी है उसमें 
संत भी है उसमें 
                  अनंत भी है उसमें।
प्रेम फर्रुखाबादी 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें