सोमवार, 20 जनवरी 2020

कभी मेरे प्यार पर पैदा कोई भरम न करो

कभी मेरे प्यार पर पैदा कोई भरम न करो।
प्यार जितना चाहे उतना करो कम न करो॥ 

दिलो जान से मैं हाजिर हूँ तुम्हारी खातिर
गुस्सा अब और मेंरे वजीरे-आजम न करो।

आओ भूलें हम मिल के सारे गिले शिकवे
अपना बना लो ख़राब  यह मौसम न करो।

जख्में दिल अब भरने वाले नहीं हैं जल्दी
छोड़ दो इन को अब इनपे मरहम न करो।

मतलब में मीठे मीठे पर हो बड़े ही कडुए 
जाओ तुमसे नहीं बोलती मेरा दम न भरो। 

पहले तो प्यार किया फिर दिल तोड़ दिया 
अब कह रहे हो कि प्रिये कोई गम न करो। 

ये दुनियां है प्यारे यहाँ दिल टूटते ही रहते 
संभालो अपने आपको आँखें नम न करो। 















कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें