सोमवार, 6 जनवरी 2020

हम तुम बैठे पास-पास तो


हम तुम बैठे पास-पास तो, देख रहे हैं सारे
अपनी ढंग से अपनी आँखे को, सेंक रहे हैं सारे
हम तुम बैठे पास-पास तो, देख रहे हैं सारे... 

एक दूजे से हम हैं दोनों,ये हमने माना तुमने माना  
दिल से तुम दीवानी हुई तो,मैं भी हुआ दीवाना 
साथ तुम्हारे बड़े ही प्यारे, हैं दुनियाँ के नज़ारे
हम तुम बैठे पास-पास तो, देख रहे हैं सारे

यूँ ही नहीं हम साथ आये, दोनों ने दोनों को चाहा 
दिल से दिल मिल गये हैं, दोनों ने दोनों को पाया 
जाने कितने हमने और तुमने डोरे पर डोरे डारे
हम तुम बैठे पास-पास तो,देख रहे हैं सारे

प्यार बिना जेल सा जीवन,जैसे हो ये कोई सजा
साथ-साथ हम आये तो,आने लगा जीने का मजा 
जैसे ही हम तुझे निहारें वैसे ही तू हमें निहारे
हम तुम बैठे पास-पास तो, देख रहे हैं सारे

- प्रेम फर्रुखाबादी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें