शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

पा कर मन का मोहना


पा कर मन का मोहना
कैसे हो खुदको रोकना
कौन सोच में डूबा रे मन
प्यार में खुदको झोकना

जब से देखा है मैंने उसको
होश नहीं बिल्कुल मुझको
सच कहूँ ऐसे में किसी का
भाये ना मुझको टोकना

ख़ुद में ही मैं लगी हूँ डूबने
ख़ुदको ही मैं लगी हूँ ढूँढने
डूबती जाऊँ यूँ ही प्यार में
भाये ना किसी से बोलना

उसकी शरण जब से गई हूँ
उसी की हो के मैं रह गई हूँ
भाने लगा अब तो मन को
साथ लेकर उसको डोलना

12 टिप्‍पणियां:

  1. "पा कर मन का मोहन
    कैसे हो खुदको रोकना
    कौन सोच में डूबा रे मन
    प्यार में खुदको झोकना।"

    बढ़िया रचना है जी।
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्‍दर अभिवयक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कौन सोच में डूबा रे मन
    प्यार में खुदको झोकना।
    सुन्दर अभिव्यक्ति
    सपर्पण का चरम

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम भाव से परिपूर्ण बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  5. उसकी शरण जब से गई हूँ
    उसी की हो के मैं रह गई हूँ
    भाने लगा अब तो मन को
    साथ लेकर उसको डोलना।


    सुन्‍दर अभिवयक्ति ....।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर भाव और अब्भिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये रचना दिल को छू गई!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. उसकी शरण जब से गई हूँ
    उसी की हो के मैं रह गई हूँ
    भाने लगा अब तो मन को
    साथ लेकर उसको डोलना।
    wah prem
    wah adhbhut prem

    उत्तर देंहटाएं