शुक्रवार, 27 फ़रवरी 2009

हित दिखाकर भी लोग अहित कर देते हैं



हित दिखाकर भी लोग अहित कर देते हैं।
अनादर भी कभी आदर सहित कर देते हैं।

दुश्मनों के रूप कौन जान पाया आज तक
जिस रूप में भी आते व्यथित कर देते हैं।

चरित्रवान कोई लाख बनना चाहे दुनिया में
ऐसे भी लोग जो आ के पतित कर देते हैं।

कितना भी सोच समझ कर फैसला कर लो
फ़िर भी राय लो, लोग भ्रमित कर देते हैं।

7 टिप्‍पणियां:

  1. क्या करें ऐसा करना लोगों का स्वभाव बन चुका है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हित दिखाकर भी लोग अहित कर देते हैं।

    अनादर भी कभी आदर सहित कर देते हैं।

    दुश्मनों के रूप कौन जान पाया है आज तक

    जिस रूप में भी आते व्यथित कर देते हैं।

    चरित्रवान कोई लाख बनाना चाहे दुनिया में

    ऐसे भी लोग हैं जो आ के पतित कर देते हैं।

    कितना भी सोच समझ कोई फैसला कर ले

    फ़िर भी राय लो तो लोग भ्रमित कर देते हैं।

    बहुत सुंदर रचना ..... पर बहुत सारे शब्‍द टूटे हुए है .... जिससे पढने में दिक्‍कत आ रही है ... इसलिए मैने कापी कर टिप्‍पणी के जगह पर पेस्‍ट कर दी है ... ताकि अन्‍य लोग भी पढ पाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुश्मनों के रूप कौन जान पाया है आज तक

    जिस रूप में भी आते व्यथित कर देते हैं।

    " sach khaa....dushman ya dost me frk krna bhut mushkil hai aajkal.....stya ko ujakr krti aapki ye archna.."

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. aap sabhi ke comments milte hai to dil ki khushi ka thikaana nahin rahta hai. aap ka apnatv hi mere liye pyaar aur aashirbaad ka kaam karta hai. Dhanybaad sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुश्मनों के रूप कौन जान पाया है आज तक

    जिस रूप में भी आते व्यथित कर देते हैं.....

    dost ke rup me hi dushman milte hain hmesha...pr aap ki kavita mere computer pe bilkul nazar nahi aayi Sangeeta ji shukriya jinhone ye kavita padhwa di...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे लोगों से दूर रहना और ' एकला चलो ' ही ज्यादा अच्छा.

    उत्तर देंहटाएं