शुक्रवार, 6 फ़रवरी 2009

छोटी छोटी बातों पर, ध्यान देना चाहिए


छोटी-छोटी बातों पर, ध्यान देना चाहिए।
छोटों को प्यार बड़ों को, मान देना चाहिए।

जहाँ कहीं भी हो रहे हों,  संत के प्रवचन
समय निकाल उनको, कान देना चाहिए।

सुनने को देखने को, मिलता है बहुत कुछ 
जरूरी ग्रहण करें बाकी, छान देना चाहिए।

समर्थन करें आगे आ के, परोपकारियों का
उनकी मदद वास्ते चादर, तान देना चाहिए।

मित्रो आपका मन, शुध्द और शांत रहेगा 
श्रध्दा के अनुसार जरूर, दान देना चाहिए।

अपना कुछ भी तो नहीं, बिगड़ता है दोस्तो
जिससे  मिलें उसको, मुस्कान देना चाहिए।


3 टिप्‍पणियां:

  1. वाह साहब, बहुत बधाई. आप ब्लॉगवाणी पर आ गये. अब सब आपकी रचनाओं बारे में जान सकेंगे. http://www.blogvani.com/

    शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर बातें कहीं आपने, बधाई स्वीकार करें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुदर सुदर बातें लिखी है....बहुत खूब !!!!

    उत्तर देंहटाएं