शनिवार, 2 मई 2009

आज की शाम चलो मेरे संग ना



आज की शाम चलो मेरे संग ना ।
खा पी कर के लगो मेरे अंग ना।

झूमेंगे गायेंगे मस्ती उडाएंगे
जहाँ कहोगे वहीं पर घुमाएंगे
वादा रहा करूंगा तुझको तंग ना।

आंखों में आँखें होगी बाँहों में बाहें
आहों में आहें होगी होगी एक राहें
प्यार के सिवा होगी कोई जंग ना ।

तेरा असर ऐसा कहूँ जनम कैसा
तेरे आगे कुछ नहीं है रूपया पैसा
तेरे सिवा चढ़े मुझपे कोई रंग ना।

तुझसे ही है हर पल जीवन मेरा
सब कुछ मेरा जो हुआ अब तेरा
हो न जुदा कभी तेरा मेरा ढंग ना।

4 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी गरमी में सावनी रोमांटिक गीत. बेहतरीन!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी प्रस्तुति।

    अजब समर्पण गीत में गजब प्रेम की चाह।
    आँखों से आँखे मिले चले एक ही राह।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. achcha sandes diya hai aapne apne jeevansathi ko...........bahut badhiya.

    उत्तर देंहटाएं
  4. purn samrpan bhavo se hi vyakt ho jata hai jo apke bhavo se ho raha hai.vaake.....acchi rachana.

    उत्तर देंहटाएं