रविवार, 24 मई 2009

आप को कभी दुखी नहीं होना चाहिए



आप को कभी दुखी नहीं होना चाहिए।
आँसुओं में आँखें नहीं भिगोना चाहिए।


भले ही फूलों की जगह तुम्हें कांटे मिलें
जिन्दगी में कभी कांटे नहीं बोना चाहिए।


दुखों से कभी हारो मत उनसे जूझते रहो
हौसला टूटे तो कभी रोना नहीं चाहिए।


हर हालत में मन में शान्ति बनाये रखें
मन की शान्ति कभी खोना नहीं चाहिए।

10 टिप्‍पणियां:

  1. दुखों से कभी हारो मत उनसे जूझते रहो

    हौसला टूटे तो कभी रोना नहीं चाहिए।

    हर हालत में मन में शान्ति बनाये रखें
    achche vichar hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस आशावादी सोच के लिए साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पूरी रचना में दिखा आशा का संचार।
    प्रेम बाँटते प्रेम जी अद्भुत लगा विचार।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भले ही फूलों की जगह तुम्हें कांटे मिलें
    जिन्दगी में कभी कांटे नहीं बोना चाहिए
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भले ही फूलों की जगह तुम्हें कांटे मिलें
    जिन्दगी में कभी कांटे नहीं बोना चाहिए।

    --बहुत खूब भाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. भले ही फूलों की जगह तुम्हें कांटे -----
    सोच के धरातल पर आशावाद के ये फूल अच्छे लगे. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन में आशा का संचार करती हुई उत्कृष्ट रचना।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत बढ़िया रचना लिखा है आपने जो काबीले तारीफ है!

    उत्तर देंहटाएं