मंगलवार, 8 जनवरी 2013

जो जीते हैं ...

 

3 टिप्‍पणियां:

  1. अति सुंदर कृति
    ---
    नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  2. लड़के लड़कियों के पीछे पड़े हैं।
    जिधर देखो उधर बेशर्म खड़े हैं।
    बिन देखे इन्हें चैन ही न आये
    दिल के हाथों में मजबूर बड़े हैं।

    समझाओ तो समझाते ही नहीं
    हो जाते एक दम चिकने घड़े हैं।
    बेशर्म इतने कि मत पूँछो भाई
    कुत्तों जैसी कुत्तई पर अड़े हैं।

    समाज चुपचाप है इन्हें देख के
    तभी लड़कियों पे जुल्म बढ़े हैं।
    वही लड़के छेड़ते लड़कियों को
    जिसके घर में संस्कार सड़े हैं।

    उत्तर देंहटाएं