गुरुवार, 18 फ़रवरी 2010

पाट बाबा की जय हो


जय हो जय हो जय हो

पाट बाबा की जय हो
बाबा की शरण में जो आये
उसको न कोई भय हो।
जय हो
पाट बाबा की जय हो।

भक्तों की रक्षा करते
प्यार उन्हें सच्चा करते
दुःख सारे ही हर लेते
सुख सारे ही भर देते
बाबा की किरपा से
जीवन ये सुखमय हो।
जय हो
पाट बाबा की जय हो।

बिगड़े काम बना देते
उजड़े धाम बसा देते
जीने की राह दिखाते हैं
जीने की चाह जागते हैं
मस्ती ही मस्ती में
जीवन सफ़र ये तय हो।
जय हो
पाट बाबा की जय हो।

जीवन में शक्ति मिलती
जीवन में भक्ति मिलती
हर मुश्किल होती आसान
खुदको मिलती है पहचान
भक्ति भावना के रस में
तन और मन एक लय हो।
जय हो
पाट बाबा की जय हो ।

8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह प्रेम भाई ।
    जय हो पाट बाबा की जय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!

    पाट बाबा की तस्वीर भी लगाते तो आनन्द आ जाता!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाट बाबा के बारे में २-४ पंक्तियाँ लिख देते तो हमें समझने में आसानी होती.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भक्तों की रक्षा करते
    प्यार उन्हें सच्चा करते
    दुःख सारे ही हर लेते
    सुख सारे ही भर देते
    बाबा की किरपा से
    जीवन ये सुखमय हो ..

    जय हो बाबा जी की ... अच्छी रचना है गुरु चरणों में ......

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन में शक्ति मिलती
    जीवन में भक्ति मिलती
    हर मुश्किल होती आसान
    खुदको मिलती है पहचान
    भक्ति भावना के रस में
    तन और मन एक लय हो।
    Bahut sundar!

    उत्तर देंहटाएं