शनिवार, 6 फ़रवरी 2010

चलो उन्हें सकून तो मिला, मुझे भुलाकर


चलो उन्हें सकून तो मिला, मुझे भुलाकर
चलो उनका दिल तो खिला, मुझे भुलाकर

हमेशा यही आरजू रही वो जहाँ रहें खुश रहें
चलो दूर हुआ उनका गिला, मुझे भुलाकर

जाने क्यों उन्होंने उदासी को ओढ़ रखा था
चलो उनका चेहरा तो खिला,मुझे भुलाकर

हमें हमारी नहीं बस उनकी फ़िक्र थी सदा
चलो उनका अच्छा तो हुआ,मुझे भुलाकर

किसी के काम तो आ गयी ये जिंदगी मेरी
हमेशा होता रहे उनका भला,मुझे भुलाकर।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्‍यारी बातें लि‍खीं हैं उस सनम के बारे में जो आपको ही भूल गया, वाह मजा आ गया। आपकी प्रोफाइल में लि‍खी गजल भी सार्थक और बेहद सुन्‍दर है। सबके भले के लि‍ये लि‍खते रहि‍ये, यही हार्दिक शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसी के काम आने की तमन्ना ही तो हमारी धरोहर है
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. किसी के काम तो आ गयी ये जिंदगी मेरी
    हमेशा होता रहे उनका भला,मुझे भुलाकर।
    बहुत खूब पूरी रचना दमदार है।शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसी के काम तो आ गयी ये जिंदगी मेरी
    हमेशा होता रहे उनका भला,मुझे भुलाकर।
    vaah,behtreen.

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसी के काम तो आ गयी ये जिंदगी मेरी
    हमेशा होता रहे उनका भला,मुझे भुलाकर।

    -फिर भी दुआ ही दुआ है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी पोस्ट बहुत सुन्दर है!
    यह चर्चा मंच में भी चर्चित है!
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/02/blog-post_5547.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. जाने क्यों उन्होंने उदासी को ओढ़ रखा था
    चलो उनका चेहरा तो खिला,मुझे भुलाकर।
    wah badhia likha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. किसी के काम तो आ गयी ये जिंदगी मेरी
    हमेशा होता रहे उनका भला,मुझे भुलाकर।

    उनका भला मुझे भुला कर ..... पर भूलना इतना आसान कहाँ प्रेम जी ..... बहुत अच्छा लिखा है ........

    उत्तर देंहटाएं