मंगलवार, 2 सितंबर 2014

पहनावे में दोष निकालें, वो महिलाओं के दुश्मन हैं



पहनावे में दोष निकालें, वो महिलाओं के दुश्मन हैं
पहनावे ही बस महिलाओं के, होते एक आकर्षण हैं
झूठ नहीं मैं सच कहता हूँ, ये पूंछ लो चाहे किसी से
महिलाओं को देख-देख के, खुश होते सबके मन हैं.
                                   -प्रेम फ़र्रुखाबादी

1 टिप्पणी: