सोमवार, 5 जून 2017

तुम हुए मुझ पर फ़िदा क्यों


तुम हुए मुझ पर फ़िदा क्यों, यह तुम जानो। 
फूल तेरे दिल का खिला क्यों, यह तुम जानो।। 
शिकायत भरी नज़रों से देखते रहते हो मुझे। 
करते रहते सबसे गिला क्यों, यह तुम जानो।। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें