सोमवार, 8 मई 2017

मुहब्बत में अच्छे अच्छे बिखर जाते हैं


नफ़रत में अच्छे अच्छे बिखर जाते हैं
मुहब्बत में अच्छेअच्छे निखर जाते हैं

हुस्न का दीवाना बताओ यहाँ कौन नहीं
हुस्न देख कर अच्छे अच्छे मर जाते हैं।

अकेला तो यहाँ पर कोई जी नहीं सकता
प्यार पा कर अच्छे अच्छे संवर जाते है

मुश्किल से गुजरे उसकी जुदाई का पल
साथ मिले तो अच्छे अच्छे तर जाते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें