गुरुवार, 30 मार्च 2017

इस दुनियां में कौन है अपना कहना मुश्किल है


इस दुनियां में कौन है अपना, कहना मुश्किल है 
जाने कौन कब दे जाय धोखा, कहना मुश्किल है 
अक्सर  लोग  भरोसे से  ही  तोड़  देते हैं भरोसा 
आखिर किस पर करें भरोसा, कहना मुश्किल है 
                          -प्रेम फ़र्रुखाबादी  


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें