मंगलवार, 26 जुलाई 2016

गरीब घर चलाना जानता है


गरीब घर चलाना जानता है
भूख को मिटाना जानता है.

आज तो है कल नहीं रहेगा
फिर भी निभाना जानता है.

रोने को दिल करता बहुत
गम को छुपाना जानता है.

गरीब का कोई नहीं यहाँ
यह बात जमाना जानता है.

जिए हर हाल में जिंदगी
बुरा वक्त भुलाना जानता है.

रूठ कर क्या बिगाड़ लेगा
खुद को बहलाना जानता है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें