सोमवार, 11 जुलाई 2016

जैसे तुम ने मुझे छुआ है

ज्यों तुम ने मुझे छुआ है.
दिल में कुछ कुछ हुआ है.
मौसम को देख कर जैसे
पेड़ से कोई आम चुआ है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें