रविवार, 19 अप्रैल 2015

उनके साथ खड़ा क्या हो गया मेरी पहचान बन गयी



उनके साथ खड़ा क्या हो गया  मेरी  पहचान  बन गयी 
उनके रहम ओ करम से जहाँ में मेरी पहचान बन गयी। 
हर कोई लपक रहा है  मेरी  और  मेरे स्वागत के वास्ते 
यह देख के बदल लिए उन्होंने मुझसे अपने सारे रास्ते। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें