मंगलवार, 14 अक्तूबर 2014

जैसे भी हों हालात, जीना तो पड़ेगा



जैसे भी हों हालात, जीना तो पड़ेगा
गर्मीं हो या बरसात, जीना तो पड़ेगा
ज़रा तकलीफें आयीं तो मरने चल दिए
कैसे हैं ये जज्बात, जीना तो पड़ेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें