मंगलवार, 4 फ़रवरी 2014

मेरे ख्यालों से खुदको आबाद कब तक करोगे



मेरे ख्यालों से खुदको आबाद कब तक करोगे
बतलाओ यूँ ही खुदको बरबाद कब तक करोगे
मैं तुम को कभी भी हासिल होने वाली नहीं हूँ
मेरी खातिर यूँ खुदको नाशाद कब तक करोगे

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें