मंगलवार, 4 फ़रवरी 2014

बड़ी आशा लेकर आये तेरे दर पे माँ भवानी



बड़ी आशा लेकर आया तेरे दर पे माँ भवानी
कुछ भी तो ठीक नहीं मेरे घर पे माँ भवानी

भक्ति से शांति मिलती कह गए लोग ज्ञानी
मिले शांति
मुझे भी ऐसा वर दे माँ भवानी किया आज से अर्पण तुझको जीवन सारा 

खिल जाए जीवन ये कुछ कर दे माँ भवानी

सारा जीवन गुजरा ये धन दौलत ही कमाते 

घर नहीं फिर भी मुझको घर दे माँ भवानी

रही तमन्ना यही मेरी
मैं
उडूं असमानों में

कैसे उडूं हौसलों के पर मुझको दे माँ भवानी

जीते जीते ऊब गया हूँ हासिल हुई ख़ुशी
मेरे भी जीवन में खुशियाँ भर दे माँ भवानी

मुझको तुमपे सच्चा भरोसा कहता मेरा मन

जीवन का हर कष्ट मेरा अब हर ले माँ भवानी



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें