मंगलवार, 4 फ़रवरी 2014

वो मेरा इंतज़ार कर रहे होंगे



वो मेरा इंतज़ार कर रहे होंगे
खुद को बेक़रार कर रहे होंगे

मेरे ख्यालों में डूब कर कभी  
ऐसे वैसे इजहार कर रहे होंगे

रहेगा ये मिलन याद बन के
तेज़ अपनी धार कर रहे होंगे

अब और क्या  क्या बतलाएं 
सारी हदें वो पार कर रहे होंगे 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें