मंगलवार, 4 फ़रवरी 2014

यूँ ही हम तुम मिलते रहे तो, एक दूजे के हो जायेंगे


यूँ ही हम तुम मिलते रहे तो, एक दूजे के हो जायेंगे
मिलके कभी होंगे जुदा यूँ, एक दूजे में खो जायेंगे

देख के अपनी प्रेम कहानी, हो जाएगी दुनिया दीवानी
याद रखेगा सारा जहाँ हम, ऐसी प्रीति को बो जायेंगे

मुलाकातें होंगी खुल कर, दिल
की दिल से बातें होंगी
बातों से गर हम थक गये तो फिर मिलके सो जायेंगे


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें