मंगलवार, 25 सितंबर 2012

स्वरचित अन्तरा,आदमी जो कहता है




आदमी जो कहता है  आदमी जो सुनता है
जिन्दगी भर वो सदायें  पीछा करती हैं.  

 (फिल्म - मजबूर - गीत  आनंद बक्षी )

पहली नज़र का प्यार प्यार होता है 
याद आये तो दिल बेकरार होता है 
भुलाने से नहीं भूलें, उसकी यादें 
झूठ नहीं कहता हूँ,बिल्कुल सच कहता हूँ 
उसकी मस्त अदाएं पीछा करती हैं...
(स्वरचित  अन्तरा - प्रेम फर्रुखाबादी )


आदमी जो कहता है  आदमी जो सुनता है
जिन्दगी भर वो सदायें  पीछा करती हैं.  

 (फिल्म - मजबूर - गीत  आनंद बक्षी )

2 टिप्‍पणियां: