शनिवार, 31 मार्च 2012

तेरी सदा पर सदा देता चला जाऊँगा



तेरी सदा पर सदा देता चला जाऊँगा
हर मोड़ पर वफ़ा देता चला जाऊँगा

तुझे हर ख़ुशी नसीब हो मेरे दिलवर
दिल से ऐसी दुआ देता चला जाऊँगा

धूप में कहीं कुम्हला कर न रह जाये
छाया की तुझे घटा देता चला जाऊँगा

हर हालात में जीती रहो यह जिंदगी
जीने की हर अदा देता चला जाऊँगा