मंगलवार, 5 अक्तूबर 2010

तेरी मेरी जोड़ी बड़ा खूब ही जमेगी


रेकॉर्डेड

तेरी मेरी जोड़ी बड़ा खूब ही जमेगी
मैं भी खुश रहूँगा खुश तू भी रहेगी

जलती है दुनिया तो जलने दे ना
मलती है ये हाथ तो मलने दे ना
प्रीति परवान यह अपनी चढ़ेगी
मैं भी खुश रहूँगा खुश तू भी रहेंगी

दुनिया से दूर हम दुनिया बसायेंगे
तन मन की मीठी ज्योति जलाएंगे
मैं वो ही करूँगा तू जो भी कहेगी
मैं भी खुश रहूँगा खुश तू भी रहेगी

मरते-मरते प्रेमियों ने ये कहा है
प्रीति बिना जीना जीना क्या है
प्रीति ये मिशाल अपनी बनेगी।
मैं भी खुश रहूँगा खुश तू भी रहेगी

गुजरेंगे हम तुम जब भी जहाँ से
चर्चा होगी अपनी सबकी जुबाँ पे
दाँतों तले ऊँगली उनकी दबेगी ।
मैं भी खुश रहूँगा खुश तू भी रहेगी

एक दूसरे के हम हो के रहेंगे
एक दूसरे में हम खो के रहेंगे
रोशन एक दूसरे से जिन्दगी रहेगी।
मैं भी खुश रहूँगा खुश तू भी रहेगी

2 टिप्‍पणियां: