सोमवार, 13 सितंबर 2010

बहुत कुछ दिया है, तुमने प्रभु



बहुत कुछ दिया है, तुमने प्रभु
कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।
जो कुछ भी
प्रभु, पास में मेरे
मेरा नहीं वो, सब है तुम्हारा।
कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।

भव-सागर में, था मैं उलझा
तेरी शरण में, आकर सुलझा
तेरी कृपा से, पाया किनारा।
कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।

तुझसे ही प्रभु,
हैं शाम-सवेरे
जानूँ नहीं कितने, रूप हैं तेरे
देखूँ जिधर उधर, तेरा नज़ारा।
कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।
अपना तुझको, जिसने बनाया
उसका जीवन, तुमने खिलाया
हो गये
उसके , जिसने पुकारा।
कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।

भक्ति में
अपनी,
रमाये रखना
कृपा की द्रष्टि, बनाये रखना
तेरा ही बस, मुझको सहारा।
कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।

7 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी पंक्तिया लिखी है आपने ....

    मुस्कुराना चाहते है तो यहाँ आये :-
    (क्या आपने भी कभी ऐसा प्रेमपत्र लिखा है ..)
    (क्या आप के कंप्यूटर में भी ये खराबी है .... )
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रभु की शरण में ही सुकून मिलता है ।
    अच्छी भावपूर्ण रचना प्रेम जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत कुछ दिया है, तुमने प्रभु
    कैसे करुँ मैं, शुक्रिया तुम्हारा।
    जो कुछ भी है, पास में मेरे
    वो है प्रभु , सब कुछ तुम्हारा ...

    सुंदसर रचना है .... सुंदर प्रभु वंदन ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. भक्तिभाव अगाध है ।
    प्रशंसनीय ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही कहा है....सब कुछ उस प्रभु का ही तो है...हम तो बस यूँ ही मेरा-मेरा कहते रहते हैं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुझसे ही प्रभु, शाम-सवेरे
    जानूँ न कितने, रूप हैं तेरे
    देखूँ जिधर उधर, तेरा नज़ारा.....
    Yes its correct.....if you want to see something more about Nature ..visit here....Aseem Asman...the sky is limitless.....

    उत्तर देंहटाएं