रविवार, 15 अगस्त 2010

गर तुम मुझको मिल गये होते



गर तुम मुझको मिल गये होते।
तो फूल दिल में खिल गये होते।

कई जख्म हो गये चाहत में तेरी
करते इनायत तो सिल गये होते।
कमाल की होती मुहब्बत अपनी
देखते लोग तो वो हिल गये होते।

इंतजार में तेरे मुद्दतें सी हो गयी
नाजुक कई दिल छिल गये होते।


3 टिप्‍पणियां:

  1. हा तो यही बात आज़ादी के लिए कहते हैं । काश कि तुम मिल गई होती । स्वतंत्रता दिवस की बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया!

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

    सादर

    समीर लाल

    उत्तर देंहटाएं
  3. कमाल की होती मुहब्बत अपनी
    देखते लोग तो वो हिल गये होते। ..

    वाह .. क्या बात है ......

    उत्तर देंहटाएं