शनिवार, 26 जून 2010

उसका हर दिल पर जादू चला जरूर होगा


उसका हर दिल पर जादू चला जरूर होगा
पाने को हर कोई दिल में जला जरूर होगा।

भला सोचके जो सबका भला सोचता फिरता
निश्चय
ही उसका एक दिन भला जरूर होगा।

खुश वो ही होगा किसी को नज़रों में गिराके
जो खुद गिर कर कहीं हाथ मला जरूर होगा

जिन्दगी का मजा अकेले आ ही नहीं सकता
थोड़ा तो किसी के संग
कहीं ढला जरूर होगा

बिना खुद जले ही भला कौन किसे जला पाया
जलने से पूर्व वो थोड़ा
बहुत जला जरूर होगा।

6 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेरणादायी पोस्ट के लिए बधाई स्वीकारें।
    -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह , वाह ! सुन्दर सार्थक ग़ज़ल ।
    तीसरे शेर में --मला ज़रूर होगा --कर लें ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिन्दगी का मजा अकेले आ ही नहीं सकता
    थोड़ा तो किसी के संग कहीं ढला जरूर होगा।
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. भला सोचके जो सबका भला सोचता फिरता
    निश्चय ही उसका एक दिन भला जरूर होगा।

    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिंदगी में उसे सब कुछ यूं ही नहीं मिला
    ठोकरें खाकर वो आगे चला जरूर होगा।

    वह खूब प्रेम जी, यूं ही लिख दिया है। अच्छा न लगे तो बुरा मत मानिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिना खुद जले ही भला कौन किसे जला पाया
    जलने से पूर्व वो थोड़ा बहुत जला जरूर होगा।

    सुन्दर ग़ज़ल....बहुत खूब लिखा है आप ने ।

    बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं