शुक्रवार, 2 अप्रैल 2010

आखिर मोहब्बत को क्यों समझेगा जमाना


आखिर मोहब्बत को क्यों समझेगा जमाना।
न समझना जमाने का रहा अन्दाज पुराना।

मोहब्बत करने वाले मिटे मोहब्बत न मिटी
मुश्किल है दुनियां से मोहब्बत को मिटाना।

शायद फले-फूले मोहब्बत चोरी-चोरी से ही
मोहब्बत गर करोगे तो प्यारे पड़ेगा छुपाना।

मोहब्बत की दुश्मन है ये दुनियां सदियों से
नहीं माना वो जो हुआ मोहब्बत में दीवाना।

6 टिप्‍पणियां:

  1. मोहब्बत पर लिखी एक उम्दा ग़ज़ल.
    शुक्रिया!!
    मुझे कुछ पंक्तियाँ याद आ रही है.
    मोहब्बत मोहब्बत मोहब्बत मोहब्बत
    हर शख्स को मिले ऐसी चाहत कीजिये
    दूर दिलों तक पहुंचे 'सुलभ' तेरे अलफ़ाज़
    मोहब्बत में यारो खतो-किताबत कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोहब्बत करने वाले मिटे मोहब्बत न मिटी
    मुश्किल है दुनियां से मोहब्बत को मिटाना।

    सच कहा ,.... मुहब्बत को मिटाना आसान नही ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. bilkul sahi baat kahi hai aapne.iske baareme do laine kahana chahungi-----------

    jamane rusawa kiya hai hame par hame unse koi shikayat nahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई जी!
    "मोहब्बत में बेकार अब डाकखाना ।
    गया प्रेम पत्रों का गुजरा जमाना ॥
    सुना वो मोबाइल धरे गाल पर हैं।
    जिसे डूंढ़ते हो वो मिस काल पर हैं॥"
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं