बुधवार, 17 मार्च 2010

मैं हूँ तेरी रानी, तू है मेरा राजा


मैं हूँ तेरी रानी, तू है मेरा राजा
आजा पास आजा, आके मुझमें समाजा
आजा पास आजा, आके मुझमें समाजा।

दोनों जियेंगे मिलके, ये जिंदगानी
प्रेम से रचाएंगे हम, प्रेम कहानी
बाँट लेंगे दुःख सुख, आधा आधा
आजा पास आजा, आके मुझमें समाजा

सुर से सुर को, मिलायेंगे दोनों
दिल से दिल को, खिलाएंगे दोनों
एक होगी तान अपनी, एक होगा रागा
आजा पास आजा, आके मुझमें समाजा

तेरे बिना जानू हम, कैसे जियेंगे
तेरी जुदाई का गम , कैसे सहेंगे
प्रीती की रीति आकर, जल्दी निभाजा
आजा पास आजा, आके मुझमें समाजा

4 टिप्‍पणियां: