बुधवार, 10 मार्च 2010

तेरी यादों में खोया करुँ


तेरी यादों में खोया करुँ
तेरे ख्वाबों में सोया करुँ
जुदाई में तेरी दिलवर मेरे
रो के खुदको भिगोया करुँ ।

लोग समझाते हैं जिस तरह
सुकून मिलता नहीं उस तरह
तुझको खुद में पिरोया करुँ।


एक दिन तो बनोगी मेरी तुम
इसी चाह में रहता हूँ गुमसुम
बेजान खुद को मैं ढोया करुँ।

कई जन्मों का रिश्ता है अपना
पास आओ नहीं दूर अब रहना
हमेशा राह तेरी मैं जोहा करुँ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. तेरी यादों में खोया करुँ
    रहूँ ख्वाबों में सोया करुँ

    ख्वाब तुम्हारे ख्वाबों से हैं
    ऊँचे-ऊँचे महराबो से है.
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. कई जन्मों का रिश्ता है अपना
    पास आओ नहीं दूर अब रहना
    हमेशा राह तेरी मैं जोहा करुँ।

    -बहुत बढ़िया!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कई जन्मों का रिश्ता है अपना
    पास आओ नहीं दूर अब रहना
    हमेशा राह तेरी मैं जोहा करुँ।


    umda hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया साहिब!
    भारतीय नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं