रविवार, 17 जनवरी 2010

लाखों में हँसीं जानम चेहरा यह तुम्हारा


लाखों में हँसीं जानम चेहरा यह तुम्हारा
तभी तो दिल ने तुझको दिल में उतारा

मौसम की तो तुम्हें दाद ही देनी चाहिए
प्यार से
जिसने तुम्हारा रूप ये निखारा

पहली ही नज़र में मैं तो होश गवां बैठा
पता ही नहीं चला दिल तुझपे कब हारा

हर अदा तुम्हारी लुभाती है दिल को प्रिये
लगता यह अंदाज़ तेरा सबसे ही न्यारा

ख्वाहिश है दिल की ये रहूँ तेरे आस पास

इस तरह तूने मुझे दिलो-दिमाग से मारा

7 टिप्‍पणियां:

  1. मौसम की तो तुम्हें दाद ही देनी चाहिए
    प्यार से जिसने तुम्हारा रूप ये निखारा।

    -क्या बात है प्रेम भाई..बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ख्वाहिश है दिल की ये रहूँ तेरे आस पास
    इस तरह तूने मुझे दिलो-दिमाग से मारा।

    wah kya baat hai , dilo dimaag se maara.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम जी
    शब्दों के अच्छे तालमेल से रची सुन्दर रचना
    बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहली ही नज़र में मैं तो होश गवां बैठा
    पता ही नहीं चला दिल तुझपे कब हारा ...
    हसीनों की ये अदा भी खूब है . पता ही नही चलता और इंसान दिल हार जाता है ......... मज़ा आ गया ......

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाखों में हँसीं जानम चेहरा यह तुम्हारा।
    तभी तो दिल ने तुझको दिल में उतारा।
    सुन्दर प्रेम अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं