रविवार, 22 नवंबर 2009

जैसे ही मैंने देखा तुझे, दिल यह मचल गया


जैसे ही मैंने देखा तुझे, दिल यह मचल गया
पल भर में दिल यह मेरा, दिलवर बहल गया

पूरी हुई दिल की, जो भी अरमान थी
बस तेरी ही तेरी, मुझको तलाश थी
बेकाबू दिल यह मेरा, तुझसे संभल गया

दीवाने की कोई कोई, होती है अरमां
परवाने की कोई कोई, होती है शमां
पाके तुझे दिल का मेरे, अरमां निकल गया

7 टिप्‍पणियां:

  1. पुर्लिग का तो हमेशा से ही शत्रीलिंग से लगाव रहा है।
    आपने अपनी इस सुन्दर सी-प्यारी सी कविता में
    इसे बाखूबी निभाया है।
    इस बढ़िया शायरी के लिए आपको शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जैसे ही मैंने देखा तुझे, दिल यह मचल गया
    पल भर में दिल यह मेरा, दिलवर बहल गया
    फ़िल्मी तर्ज पर बढ़िया रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut achcha premji , chalo arman nikal to gaya

    yahan to arman liye baithe hai
    muft men hi humse wo ainthe hain

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल मचल जाता है तभी तो बहक भी जाता है और अन्त में बस दहक ही रह जाती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इतने दिनों कहाँ रहे प्रेम भाई ?
    आपकी दिलकश शायरी को तरस गए।
    अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम जी,

    आपके दिल की पूरी हुई
    सबकी हो, हमारी भी हो

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब लिखते हैं आप सर जी ..... लाजवाब है.......

    उत्तर देंहटाएं