रविवार, 27 सितंबर 2009

फ़िल्म - ज़ंजीर के गाने की पैरोडी


फ़िल्म - ज़ंजीर के गाने की पैरोडी

बनाके क्यों बिगाडा रे, बिगाडा रे नसीबा
ऊपर वाले ऊपर वाले -२

दीवाना क्यों बनाया रे, बनाया  रे  दीवाना
ओ दीवाने  ओ दीवाने -२
मुझको रिझाके,अपना बनाके,
बनाया रे  दीवाना  ओ दीवाने  ओ दीवाने

दिल में मेरे दिलवर बनके, दिल से लगाया मुझको
प्यार अगर ये  झूठा था तो, क्यों बहलाया दिल को
कसमें खिलाके, ख़ुद भी खाके,
दीवाना क्यों बनाया रे, बनाया  रे  दीवाना
ओ दीवाने  ओ दीवाने -२


3 टिप्‍पणियां: