शुक्रवार, 21 अगस्त 2009

जलवा हुश्न जवानी का मुझको दिखाके जा ना।


जलवा हुश्न जवानी का मुझको दिखाके जा ना।
मोह लिया है तुमने मुझको मुसकराके
जा ना।

तुझसे जो मिलता जन्नत में भी वो सकून नहीं
मेरी हो जाओ रखेंगे दिल में तुझे सजाके
जा ना।

जीवन के तर्कों से मुझे कुछ भी लेना देना नहीं
मैंने अपने ख्यालों में ये तुझको समाके
जा ना।

होश नहीं है मुझको हाय जब से तुझको देखा है
होश में लादो जब चाहे मुझे पास बुलाके
जा ना।

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत रूमानी रचना है...अगर बुरा ना माने तो आप जा पर से चन्द्र बिन्दु हटा दें और जा ना कर दें...जां ना शब्द अखरता है..
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. "होश नहीं है मुझको"
    "होश में ला दो"
    इतनी मदहोश कर देने वाली रचना और आप होश मे क्यू आना चाहते है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद खुब्सूरत और जानदार .......क्या कहने .....अतिसुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. शानदार रचना के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  6. sorry for checking your comment posted on my blog on 5 th May today.Too late...
    my email id is alok.sarswat@gmail.com and it would be a pleasure for me too to meet you. :)

    उत्तर देंहटाएं