सोमवार, 31 अगस्त 2009

प्यार के समंदर उनमें सूख गए हैं


प्यार के समंदर उनमें सूख गए हैं
या फ़िर वो मुझसे अब ऊब गए हैं

क्या सोचा था और ये क्या हो गया
लगता फैसला कर के चूक गए हैं

और कहीं दिल भी तो नहीं लगता
उनकी खातिर तन मन टूट गए हैं

अब क्या प्यार नसीब होगा उनका
यह सोच के ग़मों में हम डूब गए हैं

कुछ भी कहना अब मुमकिन नहीं
या तो हम लुटे हैं या वो लूट गए हैं

14 टिप्‍पणियां:

  1. Pyar me aise samay aate rahate hai jab aisa ehsaas umdata hai..

    aapne bahut sundar varnan kiya hai pyar ki sundar aur sachchi abhiyakti..

    bahut bahut badhayi...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ भी कहना अब मुमकिन नहीं
    या तो हम लुटे हैं या वो लूट गए हैं।
    सही है लुटे को क्या फर्क पडता है.
    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूब ग़ज़ल................
    हर बार की तरह
    वाह !
    क्या शे'र है
    और कहीं दिल भी तो नहीं लगता
    उनकी खातिर तन मन टूट गए हैं।
    ___बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ भी कहना अब मुमकिन नहीं
    या तो हम लुटे हैं या वो लूट गए हैं।

    वाह..वाह...शर्मा जी!
    जिन्दाबाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्यार के समंदर उनमें सूख गए हैं।
    या फ़िर वो मुझसे अब ऊब गए हैं

    BAHOOT KHOOB LIKHA HAI .... LAJAWAB

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह क्या बात है ! बहुत अच्छा लगा पढ़कर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन....आनन्द आया पढ़कर....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. Kya socha tha aur ye kya ho gaya
    lagata faisala kar ke chook gaye hain

    wah! aksar yahee lagata hai.

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ भी कहना अब मुमकिन नहीं
    या तो हम लुटे हैं या वो लूट गए हैं।
    बहुत खूब...

    हम भी बहुत लुटे हैं...
    - सुलभ सतरंगी (यादों का इन्द्रजाल..)

    उत्तर देंहटाएं