मंगलवार, 18 अगस्त 2009

जब से मिला है तेरा प्यार तब से खिला मेरा संसार


जब से मिला है तेरा प्यार तब से खिला मेरा संसार
तेरी कसम तेरे प्यार में मिलने लगा है चैनो करार

दीवाना तूने मुझको बनाया अपने इस रूप का गोरी
सदा रहे यूँ ही छायी तुझपे दिलवर यह मस्त बहार

लगती हो तुम मुझको कोई ख्वाब किसी शायर का
तुझको देख-देख मचलती है मेरी तबियत बार-बार

भला तारीफ करुँ मैं तेरी कैसे मुझे शब्द नहीं मिलते
तारीफ से तुम हो बहुत परे मेरी हम दम जाने-बहार

ऊपर से नीचे तक तुम बस लगती मुझको रेशम सी
तुझे अपने अंग लगाये रखूँ मैं करे अंग-अंग पुकार

खुल गई है मेरी किस्मत तुझको पाकर मेरे दिलवर
मुझको प्यारा लगने लगा सचमुच सारा यह संसार

14 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार का एहसास और उसे व्यक्त करने वाला सुंदर ढंग कोई आपसे सीखे..
    बहुत बढ़िया कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रेमाभिव्यक्ति है बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. लगती हो तुम मुझको कोई ख्वाब किसी शायर का
    तुझको देख-देख मचलती है मेरी तबियत बार-बार।
    तबियत यूँ ही मचलने दीजिए
    दास्तान यूँ ही चलने दीजिए

    उत्तर देंहटाएं
  4. PREM JI,
    NASHAA SA HO GAYA HAI...
    AADAT SI HO GAYI HAI...
    AAPKI GHAZAL KA INTEZAAR RAHTA HAI...
    WAAH
    WAAH
    AAJ BHI UTNI HI9 UMDA...........
    BADHAAI !

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेम का सुनहरा रंग बिखेर दिया है आपने ..... लाजवाब .

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस प्रेम सिक्त रचना के लिए आप को बहुत बहुत बधाई...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है प्रेम जी आप अपने नामानुरूप वाकई हर तरह से प्रेममय हैं. जिन्दाबाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. भला तारीफ करुँ मैं तेरी कैसे मुझे शब्द नहीं मिलते
    तारीफ से तुम हो बहुत परे मेरी हम दम जाने-बहार।
    तारीफ करने का यह अंदाज़ बहुत भाया.
    अच्छी प्रेममयी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम तो बाढ़ से परेशान हैं,
    मगर आपकी इस सुन्दर रचना के लिए
    बधाई तो दे ही देते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुल गई है मेरी किस्मत तुझको पाकर मेरे दिलवर
    मुझको प्यारा लगने लगा सचमुच सारा यह संसार।


    bahut badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुल गई है मेरी किस्मत तुझको पाकर मेरे दिलवर
    मुझको प्यारा लगने लगा सचमुच सारा यह संसार।


    bahut badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद रोमांटिक अभिव्यक्ति है !!!
    प्रेम जी ने प्रेम से सराबोर होकर लिख दी ...??:)

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में व्‍यक्‍त किया है अपने इस रचना को बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं