बुधवार, 5 अगस्त 2009

आखिर तुम क्या चाहते हो बतलाओ हमें

आतंकबादी
आखिर तुम क्या चाहते हो बतलाओ हमें
तुमको किसने भड़काया है बतलाओ हमें

जिस थाली में खाओ उसी में ही छेद करो
यह पाठ किसने पढाया है बतलाओ हमें

कसूरबारों को मारो तो जाने हम भी तुम्हें
बेकसूरों ने क्या बिगाडा है बतलाओ हमें

तुम चाहे पचास मारो चाहे फ़िर सौ मारो
अब तक भला क्या पाया है बतलाओ हमें

आग लगादी है तुमने इस प्यारे वतन में
क्यों तरस ही नहीं खाया है बतलाओ हमें

एक दिन तुम ख़ुद भी मर जाओगे ऐसे ही
क्यों व्यर्थ जीवन गंवाया है बतलाओ हमें


6 टिप्‍पणियां:

  1. आग लगादी है तुमने इस प्यारे वतन में
    क्यों तरस ही नहीं खाया है बतलाओ हमें।

    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut badhiya likha hai..........bas itni si baat yadi samajh aa jaye to aatank mit na jaaye.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आग लगादी है तुमने इस प्यारे वतन में
    क्यों तरस ही नहीं खाया है बतलाओ हमें।

    सार गर्भित रचना है........बधाई.........

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम चाहे पचास मारो चाहे फ़िर सौ मारो
    अब तक भला क्या पाया है बतलाओ हमें।
    ==
    सार्थक प्रश्न -- आखिर इन आतंक के सौदागरो ने क्या पाया है.
    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं