रविवार, 9 अगस्त 2009

बंसी बजैया कृष्ण कन्हैया


बंसी बजैया, कृष्ण कन्हैया
आयी हूँ ,तेरे दरबार में
हाँ, आयी हूँ, तेरे दरबार में
कोई नहीं सिवा, तेरे कन्हैया
मेरा इस संसार में
हाँ, मेरा इस संसार में।


तेरी शरण में सुख मिलता है
तन खिलता है, मन खिलता है।
है मुझको भरोसा, तू सुन लेगा
विनती मेरी, एक पुकार में
हाँ, विनती मेरी,एक पुकार में।


मतलब की है, दुनिया सारी
दुनिया जीती है, पर मैं हारी
सुध बुध अपनी, भूल गई मैं
पागल होकर, तेरे प्यार में
हाँ, पागल होकर ,तेरे प्यार में।


बंसी बजैया, कृष्ण कन्हैया
आयी हूँ ,तेरे दरबार में
हाँ, आयी हूँ, तेरे दरबार में
कोई नहीं सिवा, तेरे कन्हैया
मेरा इस संसार में
हाँ, मेरा इस संसार में।




9 टिप्‍पणियां:

  1. सुध बुध अपनी भूल गई मैं
    पागल हो के तेरे प्यार में
    समर्पण की इस् आध्यात्मिक सोच को प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  2. तेरी शरण में सुख मिलता है
    तन खिलता है मन खिलता है।

    सुन्दर भाव।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भाव संजोये............ सुन्दर भक्ति और प्रेम का गीत

    उत्तर देंहटाएं
  4. krishnna prem ke virah par likha ye bhajan wakai bahut hi sundar hai......virah ko poori tarah shabd de diye hain aapne..........bahut hi bhavuk bhajan hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी ब्लोगर मित्रों का मेरा हौसला बढाने के लिए दिल से धन्यबाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज़ादी की 62वीं सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। इस सुअवसर पर मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ है। आप लोगों के प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष मिले सहयोग एवं प्रोत्साहन के लिए मैं आपकी आभारी हूं। प्रथम वर्षगांठ पर मेरे ब्लोग पर पधार मुझे कृतार्थ करें। शुभ कामनाओं के साथ-
    रचना गौड़ ‘भारती’

    उत्तर देंहटाएं