रविवार, 26 जुलाई 2009

अपनों को अपनत्व दिखाएँ मिलें तो अहसास कराएँ


अपनों को अपनत्व दिखाएँ मिलें तो अहसास कराएँ।
जिन्दगी आसान होगी साथ बैठें पल दो पल बिताएँ।

त्याग क्षमा और सहनशीलता से रिश्ते जिन्दा रहते
गर भरोसा न हो तो इनको जीवन में जरूर अपनाएँ।

जरूरत से ज्यादा बातों से रिश्तों में तनाव आ सकता
हो सके तो अपनी इस आदत पर विवेक से काबू पाएँ।

हर वक्त हर किसी से बात करने को मन नहीं करता
ऐसे हालात में भूल कर कभी किसी के पास न जाएँ।

खासम खास की मदद कैसे करें ज्यादा से ज्यादा सोचें
ऐसा सोच सोचकर अपनों को और अपने करीब लाएँ।



11 टिप्‍पणियां:

  1. जरूरत से ज्यादा बातों से रिश्तों में तनाव आ सकता
    हो सके तो अपनी इस आदत पर विवेक से काबू पायें।
    सही कहा है. बहुत सुन्दर रचना बनी है.
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. apno ke saath saath doosre jaroorat mandon ki madad ko
    aage aanaa hi apne paapon ko kam karta hai aur punya kaa khataa badaataa hai.
    jhallevichar.blogspot
    jhalli-kalam-se
    angrezi-vichar.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपनों को अपनत्व दिखाएँ मिलें तो अहसास कराएँ।
    जिन्दगी आसान होगी साथ बैठें पल दो पल बिताएं।


    सुन्दरतम प्रस्तुति।
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. त्याग क्षमा और सहनशीलता से रिश्ते जिन्दा रहते
    गर भरोसा न हो तो इनको जीवन में जरूर अपनाएँ।

    सही फ़रमाया आपने .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर विचार के साथ लिखी हुई आपकी ये शानदार रचना बहुत बढ़िया लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरा हौसला बढाने के लिए आप सभी ब्लागर मित्रों का दिल से धन्यबाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. sach kaha prem ji..har vakt aadmi baat karane me mood me nahi hota ..sabke alag alag samay hote hai..

    uchit samay par hi uchit kaam kare..
    badhiya.

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर वक्त हर किसी से बात करने को मन नहीं करता
    ऐसे हालात में भूल कर कभी किसी के पास न जाएँ

    सुन्दर विचार.............. दुरुस्त कहा है...........

    उत्तर देंहटाएं
  9. UNCHE LOG
    UNCHE VICHAAR............

    WAAH WAAH
    __________________ANUPAM KAVITA !

    उत्तर देंहटाएं