गुरुवार, 16 जुलाई 2009

हम तो पड़ोसी से दोस्ती करने चले


हम तो पड़ोसी से दोस्ती करने चले
मगर वो तो ले के छुरा पड़ गया गले

कारगिल सीमा लांघी विश्वासघात से
हमें तो ये आदमी दीखते नहीं हैं भले

पिछली लड़ाइयों से ये कुछ सीखे नहीं
तभी तो रह गए इस बार भी हाथ मले

इंसानियत इनको कभी रास आयी
ये उनसे ही खुश रहे जिनसे गए छले

ये तो आदी हुए इंसानी खून बहाने के
हम तो शान्ति चाहें इस गगन के तले

रह रह जोर लगाना इनकी आदत हुई
मगर इनके इरादे इन्हें कभी नहीं फले

दम नहीं है फ़िर भी फड फडा रहे बहुत
दुनिया करें तबाह गर इनका बस चले

फिरते हैं उतावले ये युद्ध करने के लिए
हम तो टालना चाहें युद्ध जब तक टले

दूसरों के घर घुसना बिल्कुल ठीक नहीं
भई पता नहीं ये किन संस्कारों में पले

भला क्यों नहीं आता इनकी समझ में
आग से खेलना चाहें पर कई बार जले



10 टिप्‍पणियां:

  1. इस बेहतरीन और लाजवाब रचना के लिए बधाई! बहुत अच्छी लगी आपकी ये रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. भला क्यों नहीं आता इनकी समझ में
    आग से खेलना चाहें पर कई बार जले।
    ये तो दिलजले है --- इनको जलने की आदत है.
    बहुत सुन्दर स्वाभिमानी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब आपको नज़र लग जाने की संभावनाएँ बढ़ रहीं हैं तेज़ी से। ज़रा सम्भालिए और इतनी बेहतरीन रचनाएँ लिखना बंद कीजिए। हा हा।
    दम नहीं है फ़िर भी फड फडा रहे बहुत
    दुनिया करें तबाह गर इनका बस चले।
    प्रेम भाई लाजवाब कह गए आप।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बेहतरीन निकाले हैं खजाने से...


    भला क्यों नहीं आता इनकी समझ में
    आग से खेलना चाहें पर कई बार जले।


    वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस बेहतरीन और लाजवाब रचना के लिए बहुत बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. दूसरों के घर घुसना बिल्कुल ठीक नहीं
    भई पता नहीं ये किन संस्कारों में पले।

    क्या खूब कहा!!!!!!!!

    बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  7. पड़ोसी से घात-प्रतिघात पर मुखरित स्वर।
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. bharat ki prem se gale milane ko wo hamari kamjori samjh rahe hai..
    bewkuf hai wo..
    ek baar dekh chuke hai kargil me aur bhi dekhana chahate hai..

    dikha denge ham bhi..
    badhiya bhent aapki..dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं