मंगलवार, 14 जुलाई 2009

वो मुझको अपनी जाँ समझते हैं


वो मुझको अपनी जाँ समझते हैं
मेरी मौनी को मेरी हाँ समझते हैं

जुल्फें मेरी बिखरा के ख़ुद पर वो
मुझको ठंडी घनेरी छाँ समझते हैं

बस होने ही वाले हैं साठ के ऊपर
अभी भी खुदको जवाँ समझते हैं

समझाती रहती हूँ अब यह छोडो
पर मेरी बातें वो कहाँ समझते हैं

उन के आगे तो मेरी एक चले ना
ख़ुद को तीस मार खां समझते है

रह जाती हूँ मैं मन को मसोसकर
पर मेरी कहाँ वो जुवां समझते हैं

19 टिप्‍पणियां:

  1. "बस होने ही वाले हैं साठ के ऊपर
    अभी भी खुदको जवाँ समझते हैं।"

    बहुत सही लिखा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रह जाती हूँ मैं मन को मसोसकर
    पर मेरी कहाँ वो जुवां समझते हैं।
    waah bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi imandari se wyakt kari hai bhawanao ko .........bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hi imandari se wyakt kari hai bhawanao ko .........bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  5. Kabhii to samajh jayenge vo...:)
    aap likhteyn rahen..achcha likhteyn hain

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस होने ही वाले हैं साठ के ऊपर
    अभी भी खुदको जवाँ समझते हैं।

    YAH SAATHE MEN PAATHA VAALA MAAMLA HAI JANNB. VAISE AAP LIKHTE RAHIYE KUCHH TO SUDHAAR HOGA

    उत्तर देंहटाएं
  7. साठा सो पाठा़,
    अस्सी का अधराना,
    सौ का बुड्ढा!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. "बस होने ही वाले हैं साठ के ऊपर
    अभी भी खुदको जवाँ समझते हैं।"
    हा हा हा बहुत खूब लाजवाब्

    उत्तर देंहटाएं
  9. जुल्फें मेरी बिखरा के ख़ुद पर वो
    मुझको ठंडी घनेरी छाँ समझते हैं

    गुलदस्ता है जनाब नये नये शेरो का ........ सुंदर ग़ज़ल है .

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut sundar prem ji,
    badhiya lagi aapki kavita..

    जुल्फें मेरी बिखरा के ख़ुद पर वो
    मुझको ठंडी घनेरी छाँ समझते हैं

    jawab nahi kya likhate hai aap
    badhayi ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरे पास वे शब्द नहीं जो इस गज़ल की तारीफ़ कर सकूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेम जी,
    हास्य की चन्द sprinklings के साथ सौन्दर्य का सुन्दर चित्रण किया है आप ने.

    "रह जाती हूँ मैं मन को मसोसकर
    पर मेरी कहाँ वो जुवां समझते हैं"

    इस पर मेरा कहना कुछ यूं है:

    "जज़्बात में अल्फ़ाज़ की जरूरत ही कहां है,
    गुफ़्तगू वो के तू सब जान गया और मैं खामोश यहां हूं"

    आपने तो "सच में" की तरफ़ आना ही छोड दिया!अनुग्रहीत करे कभी आकर उस तरफ़.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बस होने ही वाले हैं साठ के ऊपर
    अभी भी खुदको जवाँ समझते हैं।
    जवानी और बुढापे का उम्र से क्या सम्बन्ध
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुंदर भावना के साथ आपकी लिखी हुई इस शानदार रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बेहतरीन प्रस्तुति है

    उत्तर देंहटाएं
  16. रचना में व्यंग्य भी है,हास्य भी और संवेदना भी.

    उत्तर देंहटाएं