रविवार, 12 जुलाई 2009

मेरी भी एक प्यार से भरी कहानी थी


मेरी भी एक प्यार से भरी कहानी थी
कुछ पूँछो जिन्दगी बड़ी सुहानी थी

बड़ा मुश्किल था रहना दूर एक दूजे से
मैं उसपे दीवाना वो मुझपे दीवानी थी

जितना प्यार मिला उसका बहुत लगा
उसकी हरेक अदा दिल को लुभानी थी

उसका प्यार दिल से कभी उतरा ही नहीं
उसका प्यार ही मेरी ताकत रूहानी थी।


11 टिप्‍पणियां:

  1. उसका प्यार दिल से कभी उतरा ही नहीं
    उसका प्यार ही मेरी ताकत रूहानी थी।
    bahut hi sunder tarike se ehsaas lafzon mein dhale hai,waah.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Prem jee
    जो प्यार दिल मे उतरा ही नही वही ताकत बन गयी. वाह -- बहुत सुन्दर सोच.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस रचना की हर एक पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगी!

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम जी,

    प्रेम की गहराईयों में डूबी हुई रचना अच्ची लगी।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    मैंने अपने ब्लॉग पहली दफा़ एक गज़ल सी रचना पोस्ट की है, आपके सुझाव चाहूँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी भी एक प्यार से भरी कहानी थी।
    कुछ न पूँछो जिन्दगी बड़ी सुहानी थी।

    bahut sunder...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप बहुत दिल से लिखते हैं...वाह
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. "उसका प्यार दिल से कभी उतरा ही नहीं
    उसका प्यार ही मेरी ताकत रूहानी थी।"
    बहुत सुन्दऱ,
    बेहतरीन रचना।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं